new    ई – भर्ती के लिए यहां क्लिक करे ।

महत्वपूर्ण सरकारी संपर्क

भारत का राष्ट्रीय पोर्टल (india.gov.in)
केन्द्रीय सतर्कता आयोग (www.cvc.nic.in)
भारत सरकार की निविदाएं (tenders.gov.in)
लोक शिकायत के लिए पोर्टल (pgportal.gov.in)
समाज में रक्षा प्रौद्योगिकीयां (sodet.in)  
रक्षा मंत्रालय

रक्षा मंत्रालय का प्रमुख टास्‍क-रक्षा एवं सुरक्षा संबंधी मामलों पर, सरकार से नीति संबंधी दिशानिर्देश प्राप्‍त कर, उन्‍हें सेवा-मुख्‍यालयों, अंतर-सेवा संगठनों, उत्‍पादन-प्रतिष्‍ठानों और अनुसंधान एवं विकास संगठनों को कार्यान्‍वयन हेतु सूचित करना होता है । आबंटित संसाधनों के अंतर्गत, अनुमोदित कार्यक्रमों तथा सरकारी नीतियों के प्रभावी कार्यान्‍वयन को सुनिश्चित करना भी उतना ही आवश्‍यक होता है। रक्षा मंत्रालय में चार विभाग- रक्षा विभाग (डीओडी), रक्षा-उत्‍पादन विभाग (डीडीपी) रक्षा अनुसंधान एवं विकास विभाग (डीडीआरडी) तथा वित्‍तीय प्रभाग शामिल हैं ।

विस्‍तृत जानकारी के लिए संपर्क करें : http://www.mod.nic.in/

 
भारत डायनामिक्‍स लिमिटेड


भारत डायनामिक्‍स लिमिटेड-शांति के पीछे की शक्ति, की स्‍थापना, 1970 में हुई थी । तब से यह रक्षा बलों को, अपनी प्रभावकारी आयुध-प्रणाली से देश की रक्षा हेतु सहयोग प्रदान करता आया है ।

थल सेना के लिए गाइडेड प्रक्षेपास्‍त्रों के उत्‍पादन की शुरुआत करने वाला बी.डी.एल. आज, वायु तथा नौसेना को भी, मार्गदर्शित आयुधों एवं सहायक-प्रणालियों की आपूर्ति के पथ पर अग्रसर है । बी.डी.एल. की संपूर्ण क्षमता के अंतर्गत, मूल्‍य-प्रभावी उत्‍पादों के प्रोन्‍नयन तथा पुराने उपकरणों को नवजीवन प्रदान करने हेतु, विशेषज्ञता का सृजन किया गया है ।

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें : http://bdl.ap.nic.in

 
भारत अर्थ मूवर्स लिमिटेड


भारत अर्थ मूवर्स लिमिटेड, भारत की सर्वप्रथम ISO 9000 कंपनी होने के साथ-साथ, एशिया का दूसरी विशालतम अर्थमूविंग उपकरणों का निर्माण भी है। तीन दशक पुरानी, बहु-क्षेत्रीय व बहु-उत्‍पाद कंपनी, बीईएमएल, कोयला,खनन, स्‍टील, सीमेंट, विद्धुत, सिंचाई निर्माण, सड़क-निर्माण तथा रेलवे जैसे विविध क्षेत्रों में, महत्‍वपूर्ण अनुप्रयोगों को प्रस्‍तावित करता है । इसने अपनी उत्‍पाद-श्रेणी हाईड्रॉलिक्‍स, भारी डीज़ल इंजनों, वेल्डिंग रोबोस और भारी फॉब्रिकेशन कार्यों तक विस्‍तारित की है ।

सार्वजनिक उपक्रम, बीईएमएल ने घरेलु अर्थमूवर उद्योग, में 70% मार्केट शेअर को कमांड कर रखा है । इसकी लगभग 40% ईक्विटी, वित्‍तीय संस्‍थानों तथा जनता के लिए निवेश की गई है । बीईएमएल का कॉर्पोरेट मुख्‍यालय तथा केन्‍द्रीय विपणन प्रभाग बैंगलोर में स्थित है ।

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें : www.bemlindia.com

भारत इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स


भारत इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स लिमिटेड (बीईएल) रडार्स, रक्षा संप्रेषणों, दूरसंचार, श्रव्‍य व दृश्‍य प्रसारण, ऑप्‍टो-इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स, सौर्य-प्रणालियों, आयकर उत्‍पादों तथा इलेक्‍ट्रॉनिक संघटकों आदि क्षेत्रों में, अत्‍युत्‍तम उत्‍पादों को डिजाइन, विकासित कर निर्माण करता है ।

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें : www.bel-india.com

 
गार्डन रीच शिपबिल्‍डर्स एवं इंजीनिअर्स लिमिटेड


यह कंपनी, एक छोटे कारखाने के रूप में, 1884 में हुगली नदी के किनारे असि्तत्‍व में आई । 1916 में, इसका गार्डन रीच वर्कशॉप (जीआरडब्‍ल्‍यू) के रूप में फिर से नामकरण किया गया । 1 अप्रैल, 1960 को, इसे भारत सरकार ने अपने नियंत्रण में ले लिया । इसके पश्‍चात् कंपनी संवृद्धि और विविधता के मार्ग पर अग्रसर हो गई । इसकी बहुआयामी गतिविधियों को परिलक्षित करने के लिए जनवरी, 1977 को इसका नाम गार्डन रीच शिपबिल्‍डर्स एवं इंजीनिअर्स के रूप में परिवर्तित कर दिया गया ।

जी.आर.एस.ई. को, विशेष रूप से भारतीय नौसेना और कोस्‍ट-गार्ड की बढ़ती हुई आवश्‍यकताओं की पूर्ति हेतु उत्‍तरोत्‍तर विस्‍तारित तथा आधुनिक बनाया गया । जी.आर.एस.ई. देश के प्रमुख शिपयार्डों में से एक होने के साथ-साथ पूर्व क्षेत्र का एकमात्र शिपयार्ड है । यह आधुनिक युद्धपोतों से लेकर, परिष्‍कृत वाणिज्यिक वेसल्‍स का तथा लघु हार्बर क्राफ्ट से लेकर तेज और सशक्‍त गश्‍त-वेसल्‍स का निर्माण करता है । उत्‍कृष्‍टता के, 100 वर्षों से अधिक के अनुभव के ठोस आधार पर, जी.आर.एस.ई. नई सहस्‍त्राब्दि की चुनौतियों का सामना करने हेतु पूर्णत: सक्षम है ।

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें : http://grse.nic.in/

गोआ शिपयार्ड लिमिटेड


1957 में स्‍थापित, गोआ शिपयार्ड लिमिटेड (जीएसएल) आज, भारत के पश्चिमी तटीय क्षेत्रों का एक प्रमुख पोत कारखाना है जो, जहाजों के अभिकल्‍प, विकास, निर्माण, मरम्‍मत, आधुनिकीकरण, परीक्षण तथा नवप्रवर्तन आदि क्षेत्रों की विभिन्‍न आवश्‍यकताओं की पूर्ति करता है ।

एक छोटे से नौका-निर्माण पोत के रूप में शुरुआत करने वाला जी.एस.एल. आज देश का एक परिष्‍कृत जहाज निर्माता बन चुका है ।

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें : www.goashipyard.com

 
मॅजेगॉन डॉक लिमिटेड


मॅजेगॉन डॉक लि. भारत का, आईएसओ 9001 प्रमाणन युक्‍त एक शीर्ष जहाज / पोत कारखाना है । हमारे पोत कारखाने का वॉरशिप (6700 टी. विनाशक सहित), पनडुब्बियों, कार्गो-पोतों, टैंकरों (27,000 डीडब्‍ल्‍युटी वाले), टग्‍स आदि के निर्माण का अनुभव है । रक्षा तथा अन्‍य वाणिज्यिक उद्देश्‍यों के लिए जहाजों का निर्माण करते समय, हम आधुनिक तकनीकों का प्रयोग करते हैं जो पूर्णत: सीएडी/ सीएएम/सीआईएम सुविधाओं से युक्‍त होती हैं ।

इस क्षेत्र में हमारी श्रेष्‍ठता, हमारे सुप्रशिक्षित एवं कौशलपूर्ण मानव शक्ति तथा एक लाजवाब इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर वाली संरचना के बलबूते कायम है ।

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें : http://www.mazagondock.gov.in

 
आयुध फैक्‍टरी मंडल (बोर्ड)


आयुध फैक्‍टरी बोर्ड के तहत कार्यरत भारतीय आयुध कारखानों द्वारा थलसेना के लिए आवश्‍यक प्रत्‍येक वस्‍तु तंबुओं, स्‍लीपिंग बैग से लेकर कपड़ों तक का निर्माण किया जाता है । देश की रक्षा के लिए पूर्णत: प्रतिबद्ध इसकी पहली इकाई की स्‍थापना 1801 में हुई थी । ओ.एफ.बी. अब, धातुकीय, अभियांत्रिकी, वाहनों, ऑप्टिकल्‍स, कपडे तथा चमड़े के वस्‍त्रों आदि विभिन्‍न क्षेत्रों में अपनी पहुंच बना चुका है । आज ओ.एफ.बी. की भारत भर में 39 फैक्‍टरियां है जो निम्‍नलिखित सुविधाओं से युक्‍त हैं:

  • तकनीकी बहुल क्षमताओं से युक्‍त, बोर्ड एवं विविध-उत्‍पादन आधार ।
  • उत्‍कृष्‍ट निर्माण - सुविधाऍं ।
  • गुणवत्‍ता मानकों का सख्‍ती से अनुपालन (सभी इकाइयॉं आई.एस.ओ. 9000 प्रमाणित हैं) ।
  • आवश्‍यकता पर आधारित, परिष्‍करण एवं संशोधनों के लिए मौलिक तथा अनुकूलनीय अनुसंधान एवं विकास ।
  • परियोजना-अभियांत्रिकी क्षमता ।
  • आयुधों व हथियारों के उत्‍पादन, समाधान-मार्केटिंग तथा रक्षा-उद्देश्‍यों के लिए आवश्‍यक सॉफ्टवेअर के लिए नई परियोजना के सूत्रपात के लिए कंसल्‍टेंसी ।
  • कुशल एवं व्‍यावसायिक रूप से योग्‍य मानव-शक्ति एवं प्रबंधकीय-कार्मिक ।
  • औद्योगिक प्रशिक्षण सुविधाओं के लिए एक मजबूत आधार ।
  • सुविधाजनक लोकेशन के कारण बाजार तक तत्‍पर पहुँच ।
अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें : http://ofbindia.gov.in
 
राष्‍ट्रीय मतदाता सेवा पोर्टल (एनवीएसपी)


भारत एक समाजवादी, धर्मनिरपेक्ष, प्रजातांत्रिक गणराज्‍य होने के साथ-साथ विश्‍व का सबसे बडा लोकतंत्र है । आधुनिक भारत राष्‍ट्र का अभ्‍युदय 15 अगस्‍त, 1947 को हुआ । तब से संविधान के सिद्धांतों के अनुसार, नियमित अंतराल पर स्‍वतंत्र व निष्‍पक्ष चुनाव होते आए हैं ।

भारतीय संविधान ने, भारत के चुनाव आयोग को, अधीक्षण, निर्देशन और संसद, विधानसभा तथा राष्‍ट्रपति व उप राष्‍ट्रपति के चुनाव संचालन हेतु, समूची प्रक्रिया के नियंत्रण से संपन्‍न किया है ।

भारत का चुनाव आयोग, एक स्‍थायी सांविधिक निकाय है । चुनाव आयोग की स्‍थापना, संविधान की सहमति के अनुसार, 25 जनवरी 1950 को हुई थी । आयोग ने 2001 में अपनी स्‍वर्ण जयंती मनाई थी ।

मूलत: आयोग में केवल एक मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त हुआ करता था । वर्तमान में, उसमें एक मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त तथा दो चुनाव आयुक्‍त हैं । पहली बार, 16 अक्‍तूबर 1989 को, दो अतिरिक्‍त आयुक्‍त नियुक्‍त किये गए थे, लेकिन उनका कार्यकाल बहुत ही छोटा 1 जनवरी 1990 तक रहा । तत्‍पश्‍चात् 1 अक्‍तूबर 1993 को 02 अतिरिक्‍त आयुक्‍तों की नियुक्ति की गई । तब से, बहु सदस्‍यीय आयोग की अवधारणा चली आ रही है- जिसमें निर्णयकारी शक्ति का फैसला बहुमत से किया जाता है ।


अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें : http://www.nvsp.in/

स्‍वच्‍छ भारत


प्रधान मंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने, देश की जनता को, महात्‍मा गॉंधी के स्‍वच्‍छ भारत के अभियान (विज़न) के प्रति प्रेरित किया । स्‍वच्‍छ भारत अभियान, एक बृहद आंदोलन है जो एक स्‍वच्‍छ भारत को सृजित करना चाहता है । स्‍वच्‍छता महात्‍मा गांधी के ह्यदय में बसी थी । स्‍वच्‍छ भारत, 2019 में, बापू के 150वीं जयंती पर उनके प्रति एक सच्‍ची श्रद्धांजलि होगी । महात्‍मा गांधी, ने अपना जीवन भारत को ''स्‍वराज्‍य'' दिलवाने हेतु समर्पित कर दिया । अब समय आ गया है कि हम स्‍वयं को अपनी भारत माता की स्‍वच्‍छता हेतु समर्पित करें ।

भारत सरकार के, नागरिक एंगेजमेंट मंच - MyGov - ने स्‍वच्‍छ भारत के लिए, एक माइक्रो साइट का सृजन किया है । (https://swachhbharat.mygov.in)

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें : (https://swachhbharat.mygov.in)



यह मिश्र धातु निगम लिमिटेड- एक मिनी रत्‍न स्‍टेटस वाले सार्वजनिक उद्यम, रक्षा मंत्रालय, भारत सरकार की सरकारी वेबसाइट है ।
कॉपीराइट (सी) 2015 मिश्र धातु निगम लिमिटेड (मिधानि) ।